सिविल सेवा मुख्य परीक्षा योजना

UPSC Logo

सिविल सेवा मुख्य परीक्षा योजना

मुख्य परीक्षा में निम्नलिखित प्रश्न-पत्र शामिल होंगे।

अर्हक प्रश्न-पत्र : प्रत्येक 300 अंक।

  1. पेपर-A : (संविधान की आठवीं अनुसूची में सम्मिलित भाषाओं में से उम्मीदवारों द्वारा चुनी गई कोई एक भारतीय भाषा)
  2. पेपर-B : (अंग्रेजी)

वरीयता क्रम के लिए निम्न प्रश्न-पत्रों को आधार बनाया जाएगा:

  1. पेपर-I (निबंध) : 250 अंक
  2. पेपर-II (सामान्य अध्ययन-I) : (भारतीय विरासत और संस्कृति, विश्व का इतिहास एवं भूगोल और समाज) : 250 अंक
  3. पेपर-III (सामान्य अध्ययन-II): शासन व्यवस्था, संविधान, शासन प्रणाली, सामाजिक न्याय तथा अंतर्राष्ट्रीय संबंध : 250 अंक
  4. पेपर-IV (सामान्य अध्ययन-III) : प्रौद्योगिकी, आर्थिक विकास, जैव-विविधता, पर्यावरण, सुरक्षा तथा आपदा प्रबंधन : 250 अंक
  5. पेपर-V (सामान्य अध्ययन-IV) : (नीतिशास्त्र, सत्यनिष्ठा और अभिरुचि) : 250 अंक
  6. पेपर-VI (वैकल्पिक विषय-प्रश्न-पत्र-I) : 250 अंक
  7. पेपर-VII (वैकल्पिक विषय-प्रश्न-पत्र-II) : 250 अंक

उप योग (लिखित परीक्षा) : 1750 अंक
व्यक्तित्व परीक्षण : 275 अंक
कुल योग : 2025 अंक

अभ्यर्थी वैकल्पिक विषयों में किसी एक का चयन कर सकते हैं।

1. कृषि विज्ञान 2. पशुपालन एवं पशु चिकित्सा विज्ञान
3. नृविज्ञान 4. वनस्पति विज्ञान
5. रसायन विज्ञान 6. सिविल इंजीनियरी
7. वाणिज्य शास्त्र तथा लेखा विधि 8. अर्थशास्त्र
9. विद्युत इंजीनियरी 10. भूगोल
11. भू-विज्ञान 12. इतिहास
13. विधि 14. प्रबंधन
15. गणित 16. यांत्रिक इंजीनियरी
17. चिकित्सा विज्ञान 18. दर्शन शास्त्र
19. भौतिकी 20. राजनीति विज्ञान तथा अंतर्राष्ट्रीय संबंध
21. मनोविज्ञान 22. लोक प्रशासन
23. समाजशास्त्र 24. सांख्यिकी
25. प्राणि विज्ञान  
26. निम्नलिखित भाषाओं में से किसी एक भाषा का इतिहास: असमिया, बंगाली, बोडो, डोगरी, गुजराती, हिंदी, कन्नड़, कश्मीरी, कोंकणी, मैथिली, मलयालम, मणिपुरी, मराठी, नेपाली, उड़िया, पंजाबी, संस्कृत, संथाली, सिंधी, तमिल, तेलुगू, उर्दू और अंग्रेजी।

नोट:

1. भारतीय भाषाओं और अंग्रेजी के प्रश्न-पत्र (प्रश्न-पत्र क एवं प्रश्न-पत्र ख) मैट्रिकुलेशन अथवा समकक्ष स्तर के होंगे, जिनमें केवल अर्हता प्राप्त करनी होगी। इन प्रश्न-पत्रों में प्राप्त अंकों को योग्यता-क्रम निर्धारित करने में नहीं गिना जाएगा।

2. सभी उम्मीदवारों के 'निबंध', 'सामान्य अध्ययन' तथा वैकल्पिक विषय के प्रश्न-पत्रों का मूल्यांकन 'भारतीय भाषा' तथा अंग्रेजी के उनके अर्हक प्रश्न-पत्र के साथ ही किया जाएगा परंतु, 'निबंध', 'सामान्य अध्ययन' तथा वैकल्पिक विषय के प्रश्न-पत्रों पर केवल ऐसे उम्मीदवारों के मामले में विचार किया जाएगा, जो इन अर्हक प्रश्न-पत्रों में 25% अंक तथा अंग्रेजी में 25% अंक प्राप्त करते हैं।

3. तथापि भारतीय भाषाओं का प्रथम प्रश्न-पत्र उन उम्मीदवारों के लिए अनिवार्य नहीं होगा जो अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड तथा सिक्किम राज्य के हैं।

4. उम्मीदवारों द्वारा केवल प्रश्न-पत्र-I-VII में प्राप्त अंकों का परिगणन मैरिट स्थान सूची के लिए किया जाएगा। तथापि, आयोग को परीक्षा के किसी भी अथवा सभी प्रश्न-पत्रों में अर्हता अंक निर्धारित करने का विशेषाधिकार होगा।


Post Type: 

SHIKSHAPORTAL.COM

↑ Grab this Headline Animator