बैंकिंग परीक्षा के लिये डाटा इंटरप्रिटेशन (Data Interpretation) की तैयारी कैसे करें।

डेटा इंटरप्रिटेशन (DI) की समस्याओं को हल करने की विधि।


Prepare Data Interpretation for Bank Exams.jpg

बैंकिंग परीक्षाओं में आंकड़ा निर्वचन (Data Interpretation) भाग के प्रश्नों का बहुत अधिक महत्व होता है और देखा जाए तो लगभग हर प्रतिस्पर्धी परीक्षा प्रश्न पत्रों में इस प्रकार के प्रश्न पूछे जाते हैं। मात्रात्मक योग्यता (Quantitative Aptitude) भाग में यह विषय सबसे महत्वपूर्ण विषयों में से एक है। आम तौर पर उम्मीदवारों को इस प्रकार के प्रश्नों को हल करने के लिए अधिक समय भी लगता है। इस विषय में ग्राफ, चार्ट और तालिकाओं और कुछ वक्तव्यों से संबंधित प्रश्न भी शामिल होते हैं। जो प्रश्न वक्तव्यों के रूप में होते हैं, उनके लिये आपको सार्थक निष्कर्ष देना पड़ता है और इस प्रकार के प्रश्न किसी भी विषय से हो सकते हैं जैसे कि समय और दूरी, औसत, सरल ब्याज और मात्रात्मक योग्यता इत्यादि।

डेटा इंटरप्रिटेशन प्रश्नों में व्याख्यात्मक भाग होते हैं और इस प्रकार के प्रश्नों को हल करने के लिए एकमात्र तरीका उन प्रमुख बिंदुओं को चुनना है जिनसे आप उत्तर पा सकते हों। यहां इस लेख में हम आपको डेटा इंटरप्रिटेशन के बारे में पूर्ण विवरण और प्रश्नों को आसानी तैयार करने के बारे में महत्वपूर्ण सुझाव देंगे।

अपनी गणनात्मक योगयता में सुधार करें।


जैसा कि हम जानते हैं कि मात्रात्मक योग्यता भाग में गणितीय संयोजन व गणना इत्यादि से जुड़े प्रश्न शामिल होते है। डेटा व्याख्या अनुभाग उन विषयों में से एक है जिसके लिये गति और सटीकता दोनों की आवश्यकता होती है। नियमित अभ्यास के साथ और अलग-अलग मॉडल प्रश्नों को सुलझाने का प्रयास करें जिससे आपको प्रश्नों के उत्तर देने में मदद मिलेगी। इस प्रकार के अभ्यास से आप और तेजी से प्रश्नों के हल करनें की गति के स्तर और सटीकता में सुधार कर पाएंगे।


प्रश्नों का सही ढंग से विश्लेषण करें।

प्रश्नों में जितना अधिक डेटा (जानकारी या व्याख्या) होगी उतने ही कम समय में आप आसानी से प्रश्न को हल कर पाते हैं। यही कारण है कि प्रश्न का विश्लेषण अधिक महत्वपूर्ण है, आपको सवालों की कठिनाई के स्तर का अभ्यास करना चाहिए तथा अलग-अलग प्रकार के सवालों के बारे में एक स्पष्ट दृष्टिकोण देता है बनाइये। ध्यान रहे कि अभ्यास के दैरान प्रश्नों को हल करने के लिए आप कितना समय ले रहे हैं, यदि यह बहुत अधिक है तो इसे नियमित अभ्यास के द्वारा कम करने का प्रयास करे।

गति और सटीकता का महत्व।


डेटा इंटरप्रिटेशन सवालों को हल करने के लिए आपको संख्या, गणना, अंश और प्रतिशत इत्यादि की अच्छी समझ होनी चाहिए। सूत्र तथा बेसिक जानकारी आउर अधिक उपयोगी साबित होती है जब आप प्रश्न हल कर रहे होते हैं, क्योंकि प्रश्नों को हल करने में बहुत अधिक समय लगाना सही नही है। सवाल को सुलझाने में शॉर्टकट तकनीकों और उससे जुड़े हल करने के विभिन्न प्रकार के दृष्टिकोण विकसित करने का प्रयास करें क्योंकि आपकी सटीकता ही आपकी सफलता का आधार है।

अभ्यास करते समय कैलकुलेटर का उपयोग न करें।


जैसा कि हम सभी जानते हैं कि बैंकिंग परीक्षाओं में कैलकुलेटर के प्रयोग की अनुमति नहीं होती है। तो कैलकुलेटर के बिना सवाल हल करने का प्रयास करें, यदि आप अभी अभ्यास करना शुरू करते हैं तो केवल आप आसानी से और सही तरीके से प्रश्न हल कर सकते हैं। आपको यह समझना है कि यह केवल बैंक परीक्षाओं के मामले में ही नहीं बल्कि जो किसी भी प्रतियोगी परीक्षाओं या प्रवेश परीक्षाओं के लिए इस नियम का पालन करना चाहिए।

इकाइयों को समझें तथा इनका ध्यान रखें।


प्राय: उम्मीदवार डेटा व्याख्या से जुड़े सवालों को सुलझाने में सफल रहते हैं लेकिन वे इकाइयों की ओर ध्यान नहीं देते हैं। यहीं यह गलती हम न केवल बैंक परीक्षाओं में करते हैं बल्कि प्रतिस्पर्धी परीक्षाओं के लिये भी अभ्यास करते समय केवल प्रश्न का जवाब लिखते हैं और इकाइयों छोड़ देते हैं। आपको यह चाहिये कि आपको यूनिटों को भी लिखना चाहिए, क्योंकि इसी तरीके से आप इसे याद रख सकते हैं।

अभ्यास ही सफलता की कुंजी है।


हर दिन नियमित रूप से की गयी तैयारी बहुत महत्वपूर्ण है और यह सफलता की एकमात्र कुंजी है। जैसा कि हम जानते हैं कि ज्यादातर डेटा व्याख्या के प्रश्न पट्टी आलेख और पाई चार्ट से होते हैं। हमारा यह भी सुझाव है कि अखबारों और पत्रिकाओं को नियमित रूप से पढ़ा जाए, क्योंकि कुछ मामलों में समाचारों में दिए गए सूचनाएं, संबंधित आलेख और डेटा केवल अखबार इत्यादि में ही मिलते हैं। इस प्रकार से आप इस भाग को बहुत ही सटीकता और निर्धारित समय में पूरा कर पाएंगे और परीक्षा में सफल होंगे।


अन्य उपयोगी लेख


Post Type: 

SHIKSHAPORTAL.COM

↑ Grab this Headline Animator